बिजली का आविष्कार किसने व कब किया था? - Techig.in

बिजली का आविष्कार किसने व कब किया था?

बिजली का आविष्कार किसने व कब किया था?

नमस्कार दोस्तों इस पोस्ट के अनुसार हम जानने वाले हैं कि बिजली का आविष्कार किसने किया। दोस्तों अगर हम बात करें तो बहुत से लोग जानते होंगे और काफी सारे लोग इस बात से अनजान भी होंगे कि आखिरकार बिजली की खोज कैसे हुई उसी बात को जानते हुए हम यह पोस्ट खास आपके लिए लेकर आए हैं ताकि आप लोगों को भी पता चल सके कि आखिरकार बिजली का आविष्कार कैसे हुआ तो चलिए दोस्तों शुरू करते हैं।

दोस्तों दुनिया में कुछ ऐसे आविष्कार होते हैं जो कि दुनिया को ही बदल कर रख देते हैं तो दोस्तों इसी के ऊपर अब हम बिजली की बात करें तो बिजली भी एक ऐसा आविष्कारक है जिसने दुनिया को बदल कर रख दिया है। और भी ऐसी गई खोजें हैं जैसे आग की खोज तेल की खोज और इंटरनेट का आविष्कार अगर दोस्तों हम माने तो यह भी बहुत ही आकर्षक और अद्भुत आविष्कारक हैं दोस्तों अगर हम बात करें तो दुनिया इन्हीं आविष्कारों की वजह से एक ऊंचे मुकाम पर पहुंच चुकी है दोस्तों आज की इस पोस्ट मे हम आपको electrickcity यानी कि बिजली के बारे में बताएंगे कि बिजली का आविष्कार कैसे हुआ।

दोस्तों बिजली एक पावर है जो कि बिना किसी चीज के डाले उत्पन्न होती है दोस्तों अगर हम दूसरी चीजों की बात करें तो दूसरी चीजों में कुछ ना कुछ डालना पड़ता है दोस्तों अगर हम किसी गाड़ी की पावर की बात करें तो उसे चलाने के लिए तेल की आवश्यकता होती है उसके बाद ही उसे पावर मिलती है दोस्तों अगर हम बात करें भाप के इंजन की तो उसके अंदर पहले पानी डालना पड़ता था और इस पानी को डालने के बाद जो भी ऊर्जा उत्पन्न होती थी उसी पावर के कारण गाड़ी का इंजन चलता था दोस्तों इसी प्रकार बिजली भी एक पावर है जो कि बिना किसी चीज के डाले उत्पन्न हो जाती है लेकिन उसके लिए हमें कई चीजों की आवश्यकता होती है। दोस्तों जिस चीज के कारण बिजली चलती है उस चीज को हमें किसी से चलाना पड़ता है दोस्तों मान लो जैसे हम किसी जेनरेटर का उपयोग करते हैं तो पहले उसके अंदर तेल डालना पड़ता है। तभी वह बिजली उत्पन्न करता है।

बिजली से जुड़ी कुछ अनसुनी बातें (इतिहास )

दोस्तों आपने कहीं पर भी पढ़ा होगा या फिर सुना होगा के इंटरनेट और मोबाइल ने हमारी जिंदगी में तेजी ला दी है लेकिन बिजली नहीं होगी तो इंटरनेट मोबाइल लैपटॉप कंप्यूटर आदि बिना बिजली के किसी भी काम के उपकरण नहीं रहेंगे तो दोस्तों बिजली के अविष्कार ने भी सभी काम में तेजी ला दी है और यह बिना बिजली के संभव नहीं था दोस्तों इलेक्ट्रिसिटी एक ऊर्जा का रूप है जो कि प्रकृति में पहले से ही मौजूद है दोस्तों काफी सारे एक्सपेरिमेंट की वजह से लाइट और इलेक्ट्रिक सिटी के बीच में संबंध बनाया गया था

दोस्तों अगर हम बात करें तो बिजली की खोज करने का श्रेय बेंजामिन फ्रैंकलिन को दिया जाता है लगभग 600 ईसा पूर्व में एक यूनानी निवासी थेल्स इस बात से परिचित थे के कुछ वस्तुओं को आपस में रगड़ने के बाद वे दूसरे रूप से हल्की वस्तुओं को अपनी ओर आकर्षित करती हैं इसके बाद कुछ रिसर्च के पश्चात 1930 में तांबे के बर्तन पाए गए। जो कि प्राचीन बैटरी बनाने के काम में लाए जा सकते थे और इनका इस्तेमाल प्राचीन रोमन स्थलों पर प्रकाश उत्पन्न करने के लिए किया जाता था ऐसा ही एक उपकरण बगदाद में खुदाई करते वक्त मिला था ऐसा माना जाता है कि वे लोग इसका इस्तेमाल बैटरी के लिए करते थे दोस्तों आपकी जानकारी के लिए मैं आपको बता दूं कि 17 वीं शताब्दी तक इलेक्ट्रिक सिटी से संबंधित बहुत सारी खोजें हुई थी इलेकट्रोस्टिक जैनरेटर इलेक्ट्रिक सिटी में पॉजिटिव और नेगेटिव करंट और कंडक्टर या इंसुलेटर का वर्गीकरण किया गया।

लेकिन दोस्तों 1752 ईस्वी में बेंजामिन फ्रैंकलिन ने एक पतंग और चाबी की मदद से यह सिद्ध कर दिया की बादलों में जो लाइटिंग होती है वह और एक छोटी सी विद्युत चिंगारी एक ही चीज है

इसके बाद 1800 मैं इटालियन फिजीकेस्ट ऐलेसेनड्रो वोल्टा ने एक प्रयोग में पाया की विशेष रासायनिक प्रतिक्रिया की मदद से भी हम इलेक्ट्रिसिटी उत्पन्न कर सकते हैं और उसने 1800 में ही वोल्टेक फाइल का आविष्कार किया जो आजकल की बैटरी होती है और जो कि लगातार इलेक्ट्रिसिटी पैदा कर सकती है, और दोस्तों1831 ईस्वी में इलेक्ट्रिक सिटी को टेक्नोलॉजी के लिए भी इस्तेमाल किया जाने लगा तथा जब माइकल फैराडे ने इलेक्ट्रिक डायनेमो का आविष्कार किया तो दोस्तों इस से बिजली बनाने की समस्या दूर हो गई माइकल फैराडे के इलेक्ट्रिक डायनेमो में एक मैग्नेट थी जो की कॉपर वायर की कोली में घूमती थी और थोड़ी मात्रा में इलेक्ट्रिक करंट बनाती थी इसके बाद दोस्तों इलेक्ट्रिक सिटी के हर क्षेत्र में बहुत सारे प्रयोग किए गए और बिजली से चलने वाले नए नए उपकरणों का निर्माण होने लगा।

दोस्तों लगभग 1878 ईस्वी में एडिशन और उसके साथियों ने फिलामेंट प्रकाश बल्ब का आविष्कार किया और दूसरे बल्ब का आविष्कार कई दूसरे वैज्ञानिकों ने भी किया था दोस्तों अगर आज के इस दौर की बात करें तो हम धूप के द्वारा भी इलेक्ट्रिक सिटी यानी बिजली का निर्माण कर सकते हैं तो दोस्तों इस पर इस प्रकार हम देख सकते हैं बिजली की खोज जब से हुई तब से लेकर अब तक आधुनिक युग में बिजली की उपयोगिता में लगातार वृद्धि होती रही है वैसे दोस्तों बिजली की खोज की सभी उपलब्धियां अब तक संतोषजनक रही हैं

तो दोस्तों आपको काफी अच्छी तरीके से समझ आ गया होगा कि आखिरकार बिजली की खोज कब और कैसे हुई। और दोस्तों इलेक्ट्रिक सिटी से संबंधित आपके मन में कोई भी सवाल हो तो कमेंट बॉक्स के जरिए आप हमें पूछ सकते हैं हम आपके सवालों का जवाब देने की कोशिश जरूर करेंगे दोस्तों अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो तो लाइक और शेयर जरूर करें धन्यवाद।

Leave a Comment